Savitri Jindal Success Story: कभी पढ़ाई करने का सौभाग्य नहीं मिला, पति के मौत के बाद संभाल लिया साम्राज्य

Savitri Jindal Success Story: सावित्री जिंदल एक ऐसा नाम जिन्होंने मुश्किल घड़ी के वक्त में साम्राज्य को समेटे हुए प्रगति की ओर आगे बढ़ाया हां हम आज बात कर रहे हैं एक ऐसी महिला के बारे में जिन्होंने अपने प्रगति को कभी निराश के तौर पर नहीं देखा इनको कभी मौका ही नहीं मिला कि यह पढ़ाई कर सकें यह स्कूल का मुंह देख सके या फिर कॉलेज का मुंह देख सके. पति के अचानक मृत्यु होने के बाद सावित्री जिंदल के पास एक बहुत बड़ी जिम्मेदारी आ गई उनका कारोबार संभालने के लिए और बखूबी उन्होंने कारोबार को भी संभाल आज सावित्री जिंदल भारत की सबसे धनी महिलाओं में से एक है सावित्री जिंदल की अगर संपत्ति की बात करें तो पिछले दो सालों में लगभग 12 अरब डॉलर की बढ़ोतरी हुई है. हालांकि या बढ़ोतरी धीरे-धीरे बढ़ रही है इससे पता चलता है कि सावित्री जिंदल ने काफी मेहनत और लगन से अपने इस बिजनेस को आगे बढ़ाने में कोशिश करती हुई नजर आ रही हैं.

Savitri Jindal Success Story:अरबपतियों की लिस्ट में 126 के पायदान पर हैं

एक बार सावित्री जिंदल ने कहां तक जिंदल परिवार के ज्यादातर महिलाएं घर की जिम्मेदारी ही संभालते हैं वैसे भी हर घर की महिलाएं घर की जिम्मेदारी संभालते हैं ऐसे में सावित्री जिंदल के लिए इस मुकाम को हासिल करने में काफी मेहनत करनी पड़ी और उनका काफी समस्याओं का सामना भी करना पड़ा उनकी इस मेहनत का नतीजा यह है कि सावित्री जिंदल ने साल 2021 में सबसे अमीर भारतीय की टॉप टेन क्लबो में एंट्री कर ली थी.

Savitri Jindal Success Story संघर्ष भरा रहा जीवन

जैसा की एक महिला को अपने जीवन काल में संघर्ष तब करना पड़ता है जब उनके जीवन में कोई बड़ी मुसीबत को सामना करना पड़े जब उनके पति जिंदल समूह के संस्थापक ओमप्रकाश जिंदल की मौत हो गई साल 2005 में एक हेलीकॉप्टर दुर्घटना में उनके पति की मृत्यु हो गई उसके बाद उन्होंने अपने पति का पूरा कारोबार खुद ही संभाल लिया और जब वह जीवन के उसे पड़ाव पर थे और वह अरबपति। बन गए जब ज्यादातर लोग रिटायर होने की योजना बनाते हैं सावित्री जिंदल समूह को आगे ले जा रहे थे और यहां तक की आम आदमी के हर संभव को मदद कर रहे थे.

Savitri Jindal Success Story: असम की रहने वाली है सावित्री जिंदल

सावित्री जिंदल के जीवन में काफी मुश्किलों का सामना भी रहा और उन्होंने काफी मजबूती के साथ सभी मुश्किलों का सामना करते हुए आगे बढ़ती गई उनका जन्म 20 मार्च 1950 को हुआ था वह असम के तिनसुकिया शहर में पली बढ़ी उन्होंने 1970 में ऑफिस जिंदल से शादी कर ली उनके एक साथ नौ बच्चे हैं जिंदल समूह स्टील और बिजली समूह के संस्थापक ओपी जिंदल हरियाणा सरकार में मंत्री और हिसार निर्वाचन क्षेत्र से हरियाणा विधानसभा के सदस्य भी रह चुके थे.

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
Instagram Group Join Now