Mahatma Jyotiba Phule:महात्मा ज्योतिबा फुले की पुण्यतिथि पर उनके ये महान विचार,जाने

Mahatma Jyotiba Phule:महात्मा ज्योतिराव फुले पुण्यतिथि (Mahatma Jyotiba Phule Punyatithi) हर साल 28 नवंबर को मनाई जाती है. वह एक जाति-विरोधी कार्यकर्ता, लेखक, विचारक और समाज सुधारक थे. जिनका जन्म महाराष्ट्र में हुआ था. इनके माध्यम से बहुत सारे परिवर्तन आए और उनके सामाजिक परिवर्तन में काफी योगदान रहा और इन्होंने काफी योगदान के साथ समाज में एक लहर से लाकर रखी थी. भारत में, सामाजिक परिवर्तन को बढ़ावा देने में उनके प्रयासों और योगदान का सम्मान करने के लिए हर साल ज्योतिबा फुले जयंती मनाई जाती है. इस दिन देश के नागरिकों को बहुआयामी समाज सुधारक के बारे में बेहतर समझ होनी चाहिए. ज्योतिबा, जैसा कि वे आमतौर पर जाने जाते थे, आमतौर पर उनके जीवन को देखने जाएं तो यह एक बहू मुखी रूप से समाज सुधारक के तौर पर काम करते थे और इन्होंने अपने योगदान और प्रयासों से काफी सारी चेतनाएं और लोगों में जानकारियां दिया करते थे. और उनकी पत्नी, सावित्रीबाई फुले ने भारत में महिलाओं की स्कूली शिक्षा के लिए काम किया. वे महिलाओं के लिए कक्षाओं में भाग लेना संभव बनाने वाले पहले व्यक्ति थे

महात्मा ज्योतिबा फुले की पुण्यतिथि पर हम सभी को समाज में उनके योगदान को याद करना चाहिए और उसका जश्न मनाना चाहिए. हमें उन कठिनाइयों पर भी विचार करना चाहिए जिनका उन्होंने एक समाज सुधारक के रूप में सामना किया और उनके द्वारा किए गए बलिदानों पर विचार किया. इन्होंने समाज में अच्छे योगदान के लिए अपने जीवन को लेकर काफी अनुकूल रहते थे और लोगों को अच्छी सलाह देते थे और उनके कार्य को अगर हम देखने जाएं तो उनके कार्य हमेशा एक मानव रूप के लिए काफी सराहनीय रहा है अगर आप देखने जाएंगे तो उनके जो योगदान है वह काफी अच्छे रहे हैं.

ज्योतिराव गोविंदराव फुले का जन्म 11 अप्रैल 1827 को महाराष्ट्र के सतारा जिले में हुआ था. मूल रूप से “गोरहे” परिवार के रूप में जाना जाने वाला, ज्योतिराव का परिवार “माली” जाति से था. ब्राह्मण सामाजिक रूप से मालियों से दूर रहते थे, क्योंकि वे उन्हें निचली जाति के लोगों के रूप में देखते थे. परिवार को “फुले” नाम दिया गया क्योंकि ज्योतिराव के पिता और चाचा फूल विक्रेता थे. ज्योतिराव केवल नौ महीने के थे जब उनकी माँ की मृत्यु हो गई.

आज के दिन महात्मा ज्योतिबा फुले की पुण्यतिथि है और इस अवसर को हम आपके लिए अच्छे और सुनहरे तौर पर लेकर आए हैं उनके कुछ महान विचार हैं जिन्हें आपको जानना चाहिए और अपने जीवन में उसे शामिल करना चाहिए क्योंकि अगर आप अच्छे विचारों को अपने जीवन में शामिल करते हैं तो आपके जीवन में बदलाव होने के साथ-साथ आप दूसरे के जीवन को भी आसानी से बदल सकते हैं इन सभी बातों को ध्यान में रखना चाहिए।

ज्योतिबा एक प्रतिभाशाली व्यक्ति थे इन्होंने समाज को लेकर काफी अच्छी भावनाएं रहती थी और यह समाज सुधारक के तौर पर काम करते थे लेकिन वित्तीय कठिनाइयों के कारण उन्हें कम उम्र में स्कूल को छोड़ना पड़ा क्योंकि एक शिक्षा ही जरिया है जो आपके जीवन में अच्छा बदलाव लाने में प्रभाव डालती है उन्होंने अपने पिता के साथ पारिवारिक खेत पर काम करना शुरू कर दिया युवा प्रतिभा की कौशल ने एक पड़ोसी को प्रभावित किया जिसने उसके पिता को उसे स्कूल में दाखिला दिलाने के लिए मना लिया यानी कि उसको तैयार कर लिया।

अगर आप महात्मा ज्योतिबा फुले ने 1841 में पुणे के स्कॉटिश मिशन हाई स्कूल में पढ़ाई की और 1847 में स्नातक की उपाधि प्राप्त की अपनी मेहनत लगन के साथ इन्होंने यह सफलता तो हासिल कर ली वहां वह सदाशिव बल्लाल गोवंडे नामक एक ब्राह्मण के साथ जीवन भर के लिए घनिष्ठ मित्र बन गए जब ज्योति राव केवल 13 वर्ष के थे तब उन्होंने सावित्रीबाई से विवाह किया और उन्हें अपना जीवनसाथी बना लिया।

 

 

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
Instagram Group Join Now