FASTag Update:FASTag Deactivation News,Know your customer अगर आप गाड़ी चलाते हैं तो कर ले यह काम नहीं तो टोल पर ही रोक दिए जाएंगे

 FASTag Update : अगर आप गाड़ी चलाते हैं तो आपको टोल चुकाने के लिए FASTag का इस्तेमाल करना होता है यह आपके लिए एक जरूरी खबर है अगर आप फास्ट ट्रैक का इस्तेमाल करते हैं तो आपके लिए अच्छी बात है लेकिन आपका FASTag 31 जनवरी के बाद बंद हो सकता है भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण में इसकी जानकारी ऑफिशियल तौर पर दी है तो आपको क्या काम करना है उसके लिए आप इस आर्टिकल को अंत तक जरूर पढ़ें.

FASTag क्यों जरूरी है?

अगर आपके पास कोई भी फोर व्हीलर के ऊपर गाड़ी है और आप अक्सर ज्यादातर लॉन्ग ड्राइव करते हैं, तो आपको FASTag इस्तेमाल में जरूर आता है कि इस बीच आपको टोल जरूर मिलता है जिससे कि आप टोल भुगतान करने के लिए FASTag एक ऐसा जरिया है जो की डिजिटल तौर पर इसको बनाया गया है जिससे कि आप आप अपने समय को बचा सकते हैं पहले यह मैन्युअल हुआ करता था. लेकिन अब डिजिटल ही होने के कारण आप जैसे ही नजदीक में जाते हैं यह स्कैन कर लेता है ऑटोमेटिक टोल बूथ पर और आपके खाते से पैसा कट जाता है जो आपने फास्ट ट्रैक अकाउंट बनाया होता है इसे आपका समय भी बचत है और आपका ईंधन भी बचता है तो इसका यह फायदा है.

टोल चुकाने के लिए FASTag का इस्तेमाल करने वाले वाहन चालकों के लिए जरूरी खबर है। अगर आपका FASTag KYC अधूरा है तो यह 31 जनवरी के बाद बंद हो जाएगा. भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण ने इसकी जानकारी दी है. एक वाहन एक फास्टैग अभियान के तहत फास्टैग के उपयोग के बेहतर अनुभव को बढ़ावा देने के लिए यह निर्णय लिया गया है। इसलिए 31 जनवरी तक FASTag की KYC पूरी करना अनिवार्य होगा. ऐसा न करने पर फास्टैग धारक को ब्लैकलिस्ट कर दिया जाएगा या फास्टैग बंद कर दिया जाएगा।

साथ ही नेशनल हाईवे अथॉरिटी ऑफ इंडिया ने यह भी कहा है कि जिन ड्राइवरों की कार पर एक से ज्यादा फास्टटैग होंगे, उनके अकाउंट को ब्लैकलिस्ट कर दिया जाएगा। केवाईसी पूरी नहीं होने पर फास्टैग तो बंद हो ही जाएगा, वाहन चालकों की जेब पर भी भार पड़ेगा। वाहन चालकों को दोगुना टैक्स देना होगा। इसलिए एनएचएआई ने सभी फास्टैग धारकों को केवाईसी पूरा करने का निर्देश दिया है। भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण ने एक वाहन, एक फास्टैग योजना को लागू करने के लिए 31 जनवरी की समय सीमा तय की है।

अगर आपके पास भी कोई वहां है और आप अक्सर रोड पर चलते हैं तो आपको जरूर ना कुछ दूरी के बाद टोल बूथ देखने को मिलेगा तो अगर आपके वहां पर FASTag लगा हुआ है तो आपको यह कंपलसरी कर दिया गया है कि आप अपने केवाईसी अपडेट नहीं करते हैं. तो FASTag बंद हो जाएगा जिसकी वजह से आपको जुर्माना भी भरना पड़ सकता है तो इसके लिए आप यह नोटिफिकेशन को जरा सीरियस ले लीजिए और फास्ट टाइप के लिए आपके ईसी जरूर से जरूर कर लीजिए.

कई वाहन चालक एक से अधिक फास्टैग का उपयोग करते हैं। लेकिन नेशनल हाईवे अथॉरिटी ऑफ इंडिया ने कहा है कि अब ऐसा करना गैरकानूनी है. अब से हर वाहन पर एक ही फास्टैग होगा। RBI के दिशानिर्देशों के अनुसार, KYC अपडेट नहीं होने पर FASTag बंद हो जाएगा। फिलहाल देश में 8 करोड़ से ज्यादा लोग FASTag का इस्तेमाल करते हैं.

FASTag क्या है?

अगर आप वहां चलते हैं तो आपके लिए जानना जरूरी है कि आखिरकार FASTag होता क्या है तो आपने देखा होगा सड़क पर कुछ दूरी पर एक टोल बूथ पर ट्रैफिक जाम से बचने और राजमार्गों पर अच्छी तरह से यातायात के लिए फास्ट ट्रैक प्रणाली की प्रारंभ की गई थी 1 दिसंबर 2019 के बाद देश के सभी राष्ट्रीय राजमार्गों पर FASTag के जरिए टोल का भुगतान करने का निर्देश दिया गया था जिसका कारण यह था कि आप जब भी कर या फिर कोई वाहन लेकर लाइन में खड़े हैं तो आपको ज्यादा देर तक इंतजार नहीं करना पड़ता है. इसके लिए फास्ट ट्रैक को लेकर आया गया था कि ऑटोमेटिक FASTag के माध्यम से आपका तोल भुगतान हो जाएगा और आप ज्यादा इंतजार भी नहीं करेंगे.

FASTag यह एक स्टीकर की तरह होता है और कर की विंडशील्ड पर चिपकाए जाता है फास्टैग एक डिजिटल स्टीकर की तरह होता है जो रेडियो फ्रीक्वेंसी पहचान तकनीकी पर काम करता है फास्ट्रेक हटाने के बाद टोल राज सीधे चालक के प्रीपेड खाते या बैंक खाते से काट ले जाती है

टोल बूथों पर ट्रैफिक जाम से बचने और राजमार्गों पर सुचारू यातायात के लिए ‘फास्ट टैग’ प्रणाली शुरू की गई थी। 1 दिसंबर 2019 के बाद देश के सभी राष्ट्रीय राजमार्गों पर फास्टैग के जरिए टोल भुगतान करने का निर्देश दिया गया है। कैशलेस लेनदेन के विकल्प के रूप में टोल बूथों पर कतार से बचने के लिए FASTag प्रणाली शुरू की गई थी। यह फास्टैग एक स्टीकर की तरह होता है और कार की विंडशील्ड पर चिपकाया जाता है। FASTag एक डिजिटल स्टिकर है जो रेडियो फ्रीक्वेंसी पहचान तकनीक पर काम करता है। FASTag स्कैन होने के बाद, टोल राशि सीधे चालक के प्रीपेड खाते या बैंक खाते से काट ली जाती है।

 

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
Instagram Group Join Now